मूड में चिड़चिड़ापन और बेचैनी थायराइड कम होने के हो सकते हैं संकेत, जानिए बढ़ाने के उपाय


हाइलाइट्स

थायरॉयड की कमी हो जाए तो चिड़चिड़ेपन, तनाव, बेचैनी जैसी मानसिक समस्याएं भी पैदा हो जाती है
थायरॉयड की कमी के कारण अक्सर थकान रहती है और वजन असामान्य तरीके से बढ़ जाता है

Hypothyroidism: हमारे शरीर में थायराइड महत्वपूर्ण हार्मोन है जिसके कारण कई तरह की शारीरिक गतिविधियां करने में हम सक्षम हो पाते हैं. थायराइड हार्मोन हार्ट बीट, डाइजेस्टिव सिस्टम और ब्रेन के फंक्शन के लिए जरूरी है. यह शरीर में ऊर्जा को भी नियंत्रित करता है. थायराइड हार्मोन की कमी आमतौर पर 60 साल से उपर के व्यक्तियों में ज्यादा होती है लेकिन कई कारणों से कम उम्र के लोगों में भी थायराइड की कमी हो सकती है. थायराइड की कमी हो जाए तो चिड़चिड़ेपन, तनाव, बेचैनी जैसी मानसिक समस्याएं भी पैदा हो जाती है. आमतौर पर लोग समझते हैं कि यह कोई बीमारी नहीं है लेकिन इससे व्यक्ति के जीवन के गुणवत्ता पर असर पड़ता है. तो आइए जानते हैं थायरॉयड की कमी के क्या-क्या लक्षण हैं.

इसे भी पढ़ें- इन गलतियों की वजह से अंडरआर्म्स हो जाते हैं डार्क, इन आसान तरीका से चमकाएं

थायराइड की कमी के लक्षण
हेल्थलाइन की खबर के मुताबिक थायराइड की कमी के कारण अक्सर थकान रहती है और वजन असामान्य तरीके से बढ़ जाता है. हालांकि अलग-अलग लोगों में इसके अलग-अलग लक्षण हैं. कम उम्र के लोगों में वजन बढ़ना थायराइड की कमी का पहला लक्षण माना जाता है. इसके अलावा कई तरह की मानसिक परेशानियां होने लगती है. इसकी कमी से लोग अक्सर अवसादग्रस्त रहने लगते हैं. उसे हमेशा बेचैनी होती रहती है. किसी चीज को याद करने में दिक्कत होती रहती है. इसके अलावा ड्राई स्किन, कब्ज, पसीना नहीं आना, हार्ट रेट कम हो जाना, ब्लड कोलेस्ट्रॉल बढ़ जाना, रूखे और पतले बाल, मसल्स में कमजोरी, हड्डी में स्टीफनेस, ज्वाइंट पेन आदि की समस्या होने लगती है.

थायराइड को कैसे बढ़ाएं
हालांकि थायराइड हार्मोन घटने के कई कारण हो सकते हैं. लेकिन कम उम्र में यदि थायराइड हार्मोन की कमी हो जाए तो इसके लिए आयोडीन की कमी को जिम्मेदार माना जाता है. इसके लिए आयोडीन युक्त चीजों का सेवन थोड़ा बढ़ा दें. हालांकि 5 ग्राम से ज्यादा आयोडीन का सेवन नुकसान दे सकता है. इसके अलावा कुछ सी फूड और अंडे से भी आयोडीन के स्तर को बढ़ाया जा सकता है. इसके बावजूद अगर थायराइड कंट्रोल नहीं होता तो डॉक्टर कुछ दवाइयां देकर या रेडियोएक्टिव आयोडीन ट्रीटमेंट से इस बीमारी को ठीक करते हैं. थायराइड में मानस‍िक समस्‍याओं से बचने के ल‍िए मेड‍िटेशन करना चाह‍िए. डीप ब्रीद‍िंग एक्‍सरसाइज इसके लिए फायदेमंद है.

Tags: Health, Health tips, Lifestyle

image Source

Enable Notifications    OK No thanks